ट्रैक्टर चला कर जन चौपाल पहुंचे किसान मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष जायसवाल… कृषि विधेयक के पास होने..72 घण्टे में मिलेगा किसानों को उनकी फसल का मूल्य…भूपेश सरकार से प्रति एकड़ 20 क्विंटल धान खरीदने की मांग…

अनूप बड़ेरिया

कृषि विधेयक 2020 पास होने को लेकर भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्याम बिहारी जायसवाल खड़गवां जनपद के उधनापुर में ट्रैक्टर पूजन व ग्रामीणों के बीच जन चौपाल कार्यक्रम में शामिल हुए।
उधनापुर पहुचे भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री जायसवाल ने सर्वप्रथम ट्रैक्टर का रोली तिलक लगाकर पूजन की। इसके उपरांत किसान चौपाल में उपस्थिति किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत के इतिहास में कृषि क्षेत्र से जुड़े कानूनों में बहुत ही कम सुधार और बदलाव के कारण किसानों की स्थिति दयनीय बनी रही। किंतु कृषि सुधार बिल 2020 के संसद में पास होने से किसानों को काफी आजादी मिली है। जहां एक ओर किसान अपने क्षेत्र के मंडियों के बेड़ियों में बंधा हुआ था, या कहे कि किसान अपने स्थानीय मंडी के अलावा कही अन्य जगह अपना उपार्जन बेच नही सकता था। उन बेड़ियों से मुक्ति दिलाने का काम देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिलाई है। आज देश के किसी भी कोने का किसान अन्य वस्तुओं की तरह ही अपने उपज को देश के किसी भी हिस्से में जहां उसे मूल्य ज्यादा मिले वहां बेच सकता है। मंडी की बाध्यता को पूरे देश मे समाप्त करने का यह कानून किसानों की आजादी और उनके उत्थान के लिए मील का पत्थर साबित होगा। आज कांग्रेस और उसके सहयोगी दल इसका विरोध कर रहे है। उनके विरोध के कारण को भी आप सभी को समझना होगा। हरियाणा पंजाब में अकाली दल प्रमुख सुखबीर बादल का सुखबीर एग्रो और महाराष्ट्र में एनसीपी प्रमुख शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले का अधिकतर मंडिया इन्ही की है। इनके बिना पास किया हुई कोई भी कृषि उपज मार्किट में कोई किसान नही बेच सकता है। मंडी टेक्स से जहां सुखबीर एग्रो 8000 करोड़ सालाना आय करती है तो वही सुप्रिया सुले 10 हजार करोड़ का आय करती है। अब आप सभी किसान खुद सोच सकते है जिनके परिवार के लोग कभी खेती किसानी नही करते वे किसानों की उपज में से टैक्स लेकर इतनी बड़ी राशि हर साल कमाते है। इनकी कमाई पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए कानून को लेकर रोक लगा दिया। जिसके कारण इनके जैसे सभी बिचौलिए बौखला गए है। और सरकार की इस किसान हितैषी योजना का गलत प्रचार प्रसार कर किसान भाइयों को बरगलाने का प्रयास कर रहे है। लेकिन मुझे विश्वास है छत्तीसगढ़ का किसान अब समझदार हो चुका है, गंगा जल की कसम खाकर 2500 रुपये क्विंटल में धान खरीदी करने का वादा करने वाली कांग्रेस सरकार किसानों के खेती का रकबा कम करने का काम कर रही है, इसके साथ ही बोनस की राशि किस्तों में किसानों को दे रही।

श्री जायसवाल ने आगे कहा कि नए कानून में किसान भाइयों को 72घंटे में भुगतान की व्यवस्था की गई है, जिससे भी कई कांग्रेस प्रदेश के मुख्यमंत्री नाराज हो गए है। प्रदेश की कांग्रेस सरकार किसान हित के इस कानून को छत्तीसगढ़ में लागू नही करने का निश्चय कर चुकी है। मैं सभी किसान भाइयों से आग्रह करूंगा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को नए कृषि कानून का समर्थन करने व उसे प्रदेश में लागू करने के लिए पोस्टकार्ड भेजने का काम करे। वही प्रदेश की कांग्रेस सरकार यह भी अफवाह प्रदेश के किसानों के बीच फैला रही है कि एमएसपी समर्थन मूल्य में धान खरीदी बंद हो रहा है। मैं आप सभी किसान भाइयों को बताना चाहता हु की पिछले वर्ष तक केंद्र सरकार समर्थन मूल्य पर छत्तीसगढ़ से 42लाख मीट्रिक टन धान खरीदती थी, जिसे इस साल 60लाख मीट्रिक टन धान खरीदी करने का लक्ष्य केंद्र सरकार द्वारा तय किया गया है। जिस हेतु एमएसपी के तहत 9 हजार करोड़ रुपये की राशि भी प्रदेश की कांग्रेस सरकार को उपलब्ध कराया जा चुका है। केंद्र सरकार ने धान खरीदी छत्तीसगढ़ से 40प्रतिशत की वृद्धि की है उसी तर्ज पर भाजपा किसान मोर्चा भी प्रदेश की कांग्रेस सरकार से मांग करती है कि प्रति किसानों से 15क्विंटल में 40प्रतिशत की वृद्धि करते हुए 20क्विंटल धान प्रति एकड़ खरीदना चाहिए। कांग्रेस सरकार जब भी सत्ता में आई है किसानों का केवल शोषण करने का काम किया है।

इस कार्यक्रम में भाजपा खड़गवां मंडल अध्यक्ष जनार्दन साहू, रघुनंदन यादव, सरपंच बरदर धर्मपाल सिंह, सत्यनारायण सिंह, राजकुमार साहू, सुमेर सिंह, महेश्वर, रामप्यारे रजक, अंगद प्रसाद साहू, धर्मपाल सिंह, अंबेलाल साहू, सत्येंद्र साहू, बलमोहन, राधे श्याम सहित काफी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Don`t copy text!
Close