मनरेगा के तहत बरदर, रटगा और पिपरिया ग्राम पंचायतें बनेंगी मॉडल ग्राम पंचायत-तूलिका…महात्मा गांधी नरेगा अंतर्गत गुड गवर्नेंस इनीषिएटिव्ह पर दो दिवसीय विशेष प्रशिक्षण संपन्न..

अनूप बड़ेरिया

बैकुण्ठपुर /कोरिया जिले में महात्मा गांधी नरेगा के अंतर्गत तीन ग्राम पंचायतों को माडल पंचायतों के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके लिए प्रारंभिक चरण का दो दिवसीय विषेष प्रषिक्षण जिला पंचायत के मंथन कक्ष में संपन्न हुआ। राज्य कार्यालय से प्राप्त निर्देष के अनुरूप प्रषिक्षण के दौरान चयनित ग्राम पंचायतों के तकनीकी सहायक, ग्राम पंचायत सचिव और ग्राम रोजगार सहायको को गुड गवर्नेस इनीषिएटिव्ह के तहत किए जाने वाले कार्यों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई।

इस संबंध में विस्तार से जानकारी देते हुए जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी तूलिका प्रजापति ने बताया कि कलेक्टर कोरिया श्री एस एन राठौर के मार्गदर्षन में राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे गुड गवर्नेंस इनीषिएटिव्ह के तहत मनेन्द्रगढ विकासखण्ड के ग्राम पंचायत पिपरिया, बैकुण्ठपुर विकासखण्ड के ग्राम पंचायत रटगा और खड़गंवा के ग्राम पंचायत बरदर को प्रथम चरण में माडल ग्राम पंचायत लिया गया है। चयन के बाद इसे माडल ग्राम पंचायत के तरह विकसित करने हेतु पहले प्रषिक्षण का आयोजन किया गया। इन ग्राम पंचायतों में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत ग्राम पंचायत में दस्तावेजों का संधारण, नागरिक सूचना पटल, कार्यों की फाइलिंग सहित अन्य कई बिंदुओं पर सुव्यस्थित कार्य करने के संबंध में ग्राम पंचायत कार्यालय के मैदानी अमले को विषेष प्रषिक्षण प्रदान किया गया।
जिला पंचायत सीइओ तूलिका प्रजापति ने बताया कि गुड गवर्नेंस इनीषिएटिव्ह के तहत जिले से तीन ग्राम पंचायतों का चयन किए जाने के निर्देष प्राप्त हुए थे। जिसके बाद पिपरिया, बरदर और रटगा को इस परियोजना के तहत चयनित किया गया। राज्य द्वारा तय कार्यक्रम के अनुरूप ग्राम पंचायत के तकनीकी सहायक, ग्राम पंचायत के सचिव और ग्राम रोजगार सहायक का दो दिवसीय विषेष प्रषिक्षण षिविर 16 एवं 17 अक्टूबर को आयोजित किया गया। इस प्रषिक्षण के दौरान उपस्थित प्रषिक्षणार्थियों को नोडल अधिकारी द्वारा मानक अनुसार अलग अलग बिंदुओं पर विस्तार से प्रषिक्षण प्रदान किया गया। सबसे पहले ग्राम पंचायतों में हो रहे कार्यों के दस्तावेजीकरण के बारे में पीपीटी के माध्यम से जानकारी प्रदान की गई। इसके साथ ही ग्राम पंचायत में होने वाले समस्त मनरेगा कार्यों के लिए अलग अलग वर्क फाइल तैयार किए जाने की जानकानी प्रदान की गई। उन्हे बताया गया कि ग्राम पंचायत में होने वाले व्यक्तिगत हितग्राही मूलक कार्यों के लिए पीले कवर के साथ वर्क फाइल बनाएं तथा सार्वजनिक कार्येां के लिए सफेद कव्हर के साथ वर्क फाइल बनाएं। इसी तरह सात पंजियों के निर्माण उनमें दर्ज होने वाली एक एक जानकारी के बारे में प्रषिक्षित किया गया।


प्रषिक्षण के दौरान ग्राम पंचायत के जिम्म्ेादार अमले को महात्मा गांधी नरेगा के अंतर्गत होने वाले प्रत्येक कार्य के पहले सही स्थान पर नागरिक सूचना पटल बनाए जाने के बारे में तकनीकी ज्ञान दिया गया। इसके अलावा ग्राम पंचायत में प्रत्येक पंजीकृत श्रमिक के जाब कार्ड अद्यतनीकरण की जानकारी प्रायोगिक रूप से दी गई। जाब कार्ड दो तरह के षासन द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं एक सामान्य जाब कार्ड दूसरा विषेष श्रेणी का जाब कार्ड, दोनो तरह के जाब कार्ड और उनमें भरी जाने वाली अद्यतन जानकारी के बारे में भी विस्तार से प्रषिक्षण प्रदान किया गया। जिला पंचायत सीइओ ने बताया कि ग्राम पंचायतों में महात्मा गांधी नरेगा के तहत प्रति माह आयोजित होने वाले रोजगार दिवस के बारे में भी विषेष प्रषिक्षण के दौरान जानकारी प्रदान की गई। रोजगार दिवस के माध्यम से प्रति माह प्रत्येक श्रमिक की हर समस्या का निपटान कैसे किया जा सकता है इस पर भी प्रषिक्षण दिया गया।

Live Cricket Live Share Market

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Don`t copy text!
Close