♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

रिकॉर्ड 63 दिन के लगातार आंदोलन के बाद कोरिया बचाव मंच का धरना हुआ समाप्त…CM व संसदीय सचिव के आश्वासन के बाद…25 को NH में होने वाला चक्का जाम भी स्थगित… खड़गवां जुड़ेगा कोरिया में.?…

अनूप बड़ेरिया
15 अगस्त 2021 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा कोरिया जिले से मनेंद्रगढ़ को अलग जिला बनाए जाने की घोषणा के बाद से ही कोरिया के अस्तित्व को बचाने के लिए कोरिया बचाओ मंच की स्थापना की गई जिसके बाद लगातार 63 दिन श्रमिक आंदोलन किया गया। यह आंदोलन आज मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और स्थानीय विधायक व संसदीय सचिव अम्बिका सिंहदेव के इस आश्वासन ” कोरिया के साथ अन्याय नहीं होगा..” के बाद आज से समाप्त कर दिया गया है। विधायक अंबिका सिंह ने कहा कि आगे भी हम सभी कोरिया के हितों के लिए इसी तरह एकजुट रहेंगे। इसके साथ ही 25 अक्टूबर को NH में होने वाले चक्का जाम को भी स्थगित कर दिया गया है। आज कोरिया बचाव मंच द्वारा आयोजित प्रेसवार्ता में व्यापार संघ के अध्यक्ष संजय गुप्ता, अनिल महाराज, बसन्त रॉय, विजय सिंह द्वारा 24 अक्टूबर को CM व राज्यपाल से हुई मुलाकात व उनके द्वारा दिए गए आश्वासन की जानकारी दी गई। वहीं कोरिया बचाव मंच के संस्थापक शैलेश शिवहरे ने कहा कि मंच को सोनहत, खड़गवां, बचरा पोंडी, पटना, चर्चा के अलावा विभिन्न कोरिया व्यापार संघ, चैंबर ऑफ कॉमर्स, धार्मिक, सामाजिक संगठनों के साथ राजनीतिक दलों का भी भरपूर साथ मिला। उन्होंने साफ किया कि आगे अगर कोरिया को उसका हक नही मिला तो फिर से आंदोलन की रूप रेखा तय की जाएगी। वहीं कांग्रेस जिलाध्यक्ष नजीर अजहर ने कहा कि सीएम ने जिस तरह से हमारे प्रतिनिधि मंडल से बात की उससे साफ लगता है कि पुणे कोरिया जिले के भौगोलिक स्थिति की पूरी जानकारी नहीं है। उन्होंने हमें आश्वासन दिया है कि चिरमिरी नगर निगम के विभाजन पर विचार किया जाएगा। लेकिन विकासखंड का विभाजन केंद्र सरकार करती है उन्होंने कोरिया बचाओ मंच के लोगों से कहा है कि कलेक्टर के समक्ष अपनी आपत्ति दर्ज कराएं।  जिसके बाद खड़गवां के कोरिया में शामिल होने की संभावना बढ़ गई है। पूर्व कैबिनेट मंत्री भैयालाल राजवाड़े ने कहा कि अभी आगे हमें मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद होने वाली गतिविधियों पर नजर रखना है क्योंकि राजनीतिक बातों का कोई भरोसा नहीं होता है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button



स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

जवाब जरूर दे 

[poll]

Related Articles

Back to top button
Don`t copy text!
Close