♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

प्रवर्तन निदेशालय की कार्यवाही के विरुद्ध कांग्रेस का धरना गरजे कांग्रेसी कहा केन्द्र में बैठी मोदी सरकार ने अपने मुख्य विपक्षी पार्टी काँग्रेस के बढ़ते प्रभाव को शिथिल करने के लिए अपने पिटारे से …..अपने तोतों को ….पढ़े राजनीति से जुड़ी खबर

 

 

रायगढ़:-

 

केन्द्र में बैठी मोदी सरकार ने अपने मुख्य विपक्षी पार्टी काँग्रेस के बढ़ते प्रभाव को शिथिल करने के लिए अपने पिटारे से ED, CBI, प्रवर्तन निदेशालय, आदि तोते लोगों को काँग्रेस के नेताओं को बेबुनियाद साजिशों में फ़साने के लिए उपयोग कर रही है, और कांग्रेसियों को बेवजह परेशान कर जो घटिया मानसिकता का परिचय दे रही है उसको अब आम जनता समझ चुकी है।

जिस प्रकार से दो दिनों तक दिल्ली में हमारे काँग्रेस के अध्यक्षा सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को ED दफ्तर में बुलवाकर नेशनल हेराल्ड मामले में 16-18 घण्टे पूछताछ कर रही है जबकि सर्व विदित है कि नेशनल हेराल्ड मामले में गांधी परिवार ना तो कोई लाभ ले रहा है ना ही कोई सरकारी एजेंसियों को जाँच में सहयोग करने से इनकार कर रहे हैं। उसके बाद भी उन्हें बार बार परेशान किया जा रहा है। जिसके विरोध में देश भर के कांग्रेसी अपने चहेते नेता के समर्थन में शांति पूर्ण प्रदर्शन करने दिल्ली पहुंचे, उन लोगों पर भी इन्होंने अपने पुलिस के माध्यम से बेरहमी से मारपीट करवाया गया। जिसकी काँग्रेस पार्टी विरोध करती है।

उसी सब घटना क्रम को ध्यान में रखते हुए छत्तीसगढ़ काँग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार आज केंद्रीय विभाग मुख्य पोस्ट ऑफिस दफ्तर के सामने धरने पर बैठकर मोदी सरकार पर जमकर भाषण बाजी की गई। काँग्रेस के दिग्गजों ने अपने-अपने उद्बोधन में केंद्र सरकार के द्वारा विपक्षी पार्टी के नेताओं को परेशान करने के लिए सरकारी एजेंसियों को निजी स्वार्थ सिद्धि के लिए उपयोग कर, ना केवल सबको परेशान कर रहा है बल्कि सरकारी एजेंसियों की छवि को मटियामेट करने का काम मोदी द्वारा किया जा रहा है। इन्हीं मुद्दों का विरोध दर्ज करते हुए धरना देकर भारत के महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम एक ज्ञापन स्थानीय जिला प्रशासन को सौंपा।

काँग्रेस के दिग्गजों ने अपने-अपने उद्बोधन में केंद्र सरकार की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगा दिया कि यह सरकार भारत को किस दिशा में लेकर जा रही है। मुख्य मुद्दों से जनता का ध्यान कैसे भटकाना है मोदी अच्छे से जानता है। कार्यक्रम का मंच संचालन प्रभारी महामंत्री शाखा यादव द्वारा किया गया।

आज के धरना प्रदर्शन में प्रमुख वक्ताओं में, जिलाध्यक्ष अनिल शुक्ला ने ओजपूर्ण स्वर से केंद्र में बैठी बीजेपी सरकार को ललकारते हुए कहा कि मोदी सरकार के इशारे पर प्रवर्तन निदेशायल द्वारा जो जांच कार्यवाही करवा रही है वहः द्वेष की भावना से उठाया गया कदम है। नेशनल हेराल्ड के विषय में विस्तारपूर्वक जानकारी दी और साथ ही आरोप लगाया कि, आज अप्रत्यक्ष रूप से भारतीय जनता पार्टी सारे समाचार समूहों को अपने दबाव में रखना चाहती है जो देश के चौथे स्तंभ के निजी अधिकारों का एक प्रकार से हनन है। नेशनल हेराल्ड नो प्रॉफिट नो लॉस वाली कंपनी है। 2015 में इस पर जांच हुई। जिसमें पाया गया यह प्रकरण चलने लायक नहीं है। उदयपुर में हुए कांग्रेस के चिंतन शिविर पर जब भारत जोड़ो पदयात्रा का कार्यक्रम किए जाने की घोषणा से केंद्र सरकार को अपने भविष्य की परवाह होने लगी और उन्होंने पुनः जांच हेतु कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व को ईडी (ED)का सम्मन भिजवाया जो द्वेषपूर्ण कार्यवाही ही है।
अहंकारी भाजपा के पुलिस की AICCI मुख्यालय में घुस कर कांग्रेस कर्मियों और नेतृत्व पर किया गया प्रहार लोकतंत्र पर प्रहार है। इसकी घोर निंदा एवँ प्रतिवाद की जानी चाहिए।

पूर्व शहर कांग्रेस अध्यक्ष नागेंद्र नेगी ने कहा- आज कांग्रेस पर झूठे प्रकरण के कारण हो रहे धरना कार्यक्रम का उद्देश्य देश में जो बीजेपी गलत माहौल बना रही है। हम सब कांग्रेस की छबि को हमेशा बनाए रखने के लिए कृत संकल्पित हैं।

काँग्रेस सेवादल जिलाध्यक्ष सन्तोष बोहिदार ने कहा कि बीजेपी शुरू से कांग्रेस को कमजोर करने की नाकाम कोशिश में लगी है जिन्होंने आजादी के आंदोलन में शून्य भूमिका भी नहीं निभाई उनके ओछी हरकतों से सब परिचित हो चुके हैं। जिस नेशनल हेराल्ड की जांच में हमारे शीर्ष नेता जांच के दायरे में है उस समूह से निकले समाचार पत्र से अंग्रेजों की चूलें हिल जाती थी उस नेशनल हेराल्ड की जांच में झूठे आरोपों से फंसाने की सुनियोजित शाजिश है।

पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ अध्यक्ष संजय देवांगन ने कहा कि, आज का ये 1 दिवसीय धरना भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने वाली सरकार के विरुद्ध है बीजेपी को अपनी जमीन खिसकती देख झूठे आरोपों से अपने अधिनस्त सरकारी एजेंसियों द्वारा परेशान कर रही है और कहा सत्ता में बैठी सरकार हिटलरशाही सरकार है।

किसान नेता जयंत बोहिदार ने कहा- आज राष्ट्रव्यापी आंदोलन जो केंद्र सरकार के विरुद्ध चल रहा है वहः एक सोची समझी साजिश का हिस्सा है। झूठे प्रकरणों से सारे विपक्ष पर जो कार्यवाही कर रही है इससे न ही विपक्ष डरेगा और न ही कांग्रेस झुकेगी। इन्हें जातीयता फैलाने वाली और बुलडोजर वाली सरकार की संज्ञा से जाना जा रहा है जो तोड़ने का कार्य करती है और ये जग जाहिर है कि कांग्रेस ने हमेशा जोड़ने का कार्य किया है।

अशरफ़ खान ने धरना प्रदर्शन पर ED की कार्यवाही पर कहा- आज देश मे लोकतंत्र समाप्त हो चुका है बीजेपी वाले झूठे वादों को पूरा नही कर रही और वहः कहती कुछ है करती कुछ है ऐसी सरकार की हम निंदा करते है।

एल्डरमैन राजेन्द्र पांडेय ने कहा- केंद्र सरकार विपक्षी नेताओं को परेशान करने के उद्देश्य से कांग्रेस के नेताओं पर झूठे प्रकरण में फंसाने की लगातार कोशिस कर रही है जो विफल साबित हो रही है। इस झूठी सरकार को देश की जनता जल्द बेदखल करेगी।

जिला कांग्रेस कार्यकारणी सदस्य रिंकी पांडेय ने मोदी सरकार की तानाशाही के विरूद्ध आवाज बुलंद कर कहा- ये जो कर रहे है उसके लिए ये वाक्य सही है “ओह माय गॉड” इनके काले कारनामों को हम जग जाहिर कर उनका असल चेहरा सामने लाएंगे। हमारी राष्ट्रीय एकता को बांटने के काम करने वाली सरकार को जड़ से उखाड़ने का वक़्त आ गया है।

महिला कांग्रेस की रेखा ने भी बीजेपी की सरकार को जमकर कोसा

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से रायगढ़ की महापौर जानकी काटजू, मदन महंत, बलबीर शर्मा, विकास ठेठवार, उपेन्द्र सिंह, नारायण घोरे, दयाराम धुर्वे, विकास शर्मा, संजय चौहान, प्रदीप मिश्रा, भरत तिवारी, विकास बोहिदार, वसीम खान, विनोद कपूर, शैलेश मनहर, ताराचंद श्रीवास, गोरेलाल बरेठ, अरविंद साहू, जयदेव मित्रा, सेवादल से सन्तोष बोहिदार, शकील अहमद मुन्ना, वकील अहमद, अनुभव, सन्तोष चौहान, बिज्जू ठाकुर, गौतम महापात्र, सूरज उपाध्याय, अमृत काटजू, श्रेयांश शर्मा, शारदा सिंह गहलोत, आशीष जायसवाल, रितेश तिवारी, गणेश घोरे, आशीष शर्मा, सत्यप्रकाश शर्मा, पूर्णानन्द शर्मा, राजेंद्र यादव, सुकलाम्बर दीपक, सुरेश मालाकार, विजय टण्डन, रंजना कमल पटेल, बरखा सिंह, रिंकी पांडेय, अरुणा चौहान, रेखा वैष्णव, अरुणा मेश्राम, सोनू पुरोहित, रोहित महंत, गौरांग अधिकारी, अशोक सोनी, मिंटू मसीद, शेख़ हुसैन, इब्राहिम अली, राजू बोहिदार, सन्तोष यादव, लक्ष्मण महिलाने, फ़हद अली, अजहर हुसैन, बसन्त दास, नितेश ठेठवार, कमला पटेल, संयुक्ता सिंह, केवरा बाई, उर्मिला लकड़ा, यशोदा कश्यप, बीनू बेगम, सुप्रिया पटेल, अल्ताफ खान, नाहिद अख्तर, दादू, घासीदास महंत सहित अन्य काँग्रेसी उपस्थित रहे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button



स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

जवाब जरूर दे 

[poll]

Related Articles

Back to top button
Don`t copy text!
Close